Tuesday, August 14, 2012

स्वतन्त्रता दिवस के लड्डू

कभी बचपन में हम पंद्रह अगस्त के एक दिन पहले एक सफ़ेद कागज़ पर गाढ़े लाल, हरे और नीले रंग से तिरंगा बनाकर उसे गोंद से एक लकड़ी के डंडे पर फहरा कर झंडा तैयार कर लिया करते थे और फिर १५ अगस्त के दिन जल्दी सुबह उठकर बड़े जोश से जब प्रभात फेरी लगाते हुए देश भक्ति गीत गाते हुए उबड़=खाबड़ पगडंडियों से निकलकर गाँव में प्रवेश करते थे तो तब लोग अपने घरों से निकल कर खूब तालियाँ बजाकर हमारा उत्साह बढाकर दुगुना कर देते थे. प्रभात फेरी में देशभक्ति के जाने कितने ही गीत  इतने जोर शोर गाते थे कि अगले दिन गले से आवाज बंद हो जाया करती थी. प्रभात फेरी के माध्यम से गाँव-गाँव, घर-घर जाकर देशभक्ति के गीतों से देशप्रेम का अलख जगाने का यह सिलसिला देर शाम तक चलता रहता था. शाम को स्कूल से १-२ लड्डू क्या मिले कि बड़े खुश होकर घर लौटकर अपने घर और आस-पड़ोस में उसे प्रसाद की तरह मिल बांटकर खुश हो लेते थे. आज जब उन गीतों के साथ ही बीच-बीच में लगाए नारों को याद करती हूँ तो सोचती हूँ तब बचपन कितना मासूम होता था जिसमें बहुत कुछ सोचने समझने की जरुरत ही नहीं पड़ती थी. अपनी ही मस्ती में गीत और नारे लगाकर थकते नहीं थे.

"कौमी तिरंगे झंडे, ऊँचे रहो जहाँ में
हो तेरी सर बुलंदी, ज्यों चाँद आस्मां में
तू मान है हमारा, तू शान है हमारी
तू जीत जा निशाँ है, तू जान है हमारी
आकाश और जमीं पर, हो तेरा बोल बाला
झुक जाय तेरे आगे, हर तख्तो- ताज वाला
हर कौम की नज़र में, तू अमन का निशाँ है"
..................
और नारों का भी तब हमारे पास कम जवाब नहीं था -

गुरूजी - "शेर बच्चो!"
बच्चे - "हाँ जी हाँ"
गुरूजी - "खाते क्या हो?"
बच्चे - " दूध-मलाई"
गुरूजी - "करते क्या हो?"
बच्चे - "देश भलाई"

...बचपन के इस "दूध -मलाई" और "देश भलाई" के मायने धीरे-धीरे बदलकर गहन शोध के विषय बन जायेंगे, इसका ख्याल कभी जेहन में आया ही नहीं पाया था. चलिए फ़िलहाल इस मौके पर एक बानगी प्रस्तुत है-

जब-जब १५ अगस्त को लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया जाता है
तब-तब स्वातंत्र्य के लिए न्यौछावर हर शहीद सबको याद आने लगता है
प्रधानमंत्री जी पहले देश की कठिनाईयों, विपदाओं पर कुछ देर गंभीर होते हैं
फिर भावी योजना पर प्रकाश डाल वर्षभर की उपलब्धियों का बखान करते हैं
राष्ट्रशक्ति को निर्बल करने वाले आंतरिक व बाह्य तत्वों पर तीव्र प्रहार करते हैं
'जय हिंद' का घोष कर मिलकर 'राष्ट्रगान' गाकर फिर अपनी राह पकड़  लेते हैं 
इधर दिल्ली के प्रमुख नागरिक, राजदूत, कूटनीतिज्ञों का सरकारी भोज होता है
उधर हमारा भी 'आजादी का एक लड्डू, पाकर मन को ख़ुशी से भर आता है
चलो आज 'हम स्वतंत्र है और रहेंगे' यह भाव एक बार सबके मन तो आता है
जो मन में 'राष्ट्र और राष्ट्रीयता' की हलकी-सी हलचल उत्पन्न कर जाता है
आओ सभी फहरा कर तिरंगा
मिलकर गायें ये गीता न्यारा
"इस वास्ते पंद्रह अगस्त है हमें प्यारा
आजाद हुआ आज के दिन देश हमारा"

स्वतंत्रता दिवस की मंगलकामनाओं सहित
जय हिंद, जय भारत 

...कविता रावत

www.hamarivani.com
 halchal
रफ़्तार
 I.A.S.I.H
ब्लॉग - चिठ्ठा
 I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़

Install Codes


CG Blog

CG Blog